Saturday, 29 April 2017

ग्रामसभा और ग्राम कोष हमारी शक्ति और संस्कृति है: रामदयाल


झारखण्ड के कोडरमा जिला के डोमचांच प्रखंड मुख्यालय से 15 किलो मीटर दूर सुदूरवर्ती पंचायत मसनोडीह के जिओरायडीह गाँव में स्वय सेवी संस्था संग्राम द्वारा सामुदायिक बैठक का आयोजन किया गया, बैठक की अध्यक्षता वार्ड सदस्य रामदयाल बिरहोर ने किया, बैठक को संबोधित करते हुए रामदयाल बिरहोर ने कहा की हमारे गाँव में पहले बहुत सारी समस्या थी जिस पर हमलोग कुछ नहीं कर पाते थे, पर संस्था के लोगो ने हमलोगों के बिच जब से आना जाना शुरू किया है बहुत बदलाव आया है, पर अब हाल में हमलोगों के पास आवास की प्रमुख समस्या है। अन्य लोगो ने यह अफवाह फैला दिया है की बिरहोर सीमेंट के घर में नहीं रहते , उन्हें कुप्पा ही पसंद है। पर उन्हें हम बताना चाहेंगे की कुप्पा हमरी संस्कृति है और परंपरा है जिससे हम अलग नहीं हो सकते पर हमारी बेहतर जीवन के लिए आवास जरुरी है। वही सुरेश बिरहोर ने कहा की पिछले बार कोडरमा उपायुक्त के पहल पर हमलोग मछली उपजाए थे तो वही प्रखंड विकास पदाधिकारी के सहयोग से मकई और लाहर का पैदावार किये थे,पर आज भी इस काम को ले कर हम स्थाई नहीं है इसके लिए हमें आगे प्रयास करने की जरुरत है, वही बैठक में संवाद रांची से आये राजकुमार जी ने महाराष्ट्र के मेढ़ालेखा गाँव के ग्रामसभा मजबूती की बात बताई। जिस पर रामदयाल बिरहोर ने कहा की उस गाँव की तरह हम भी अपने गाँव के ग्रामसभा को मजबूत करेंगे और हमारे गाँव की खोई हुई संस्कृति को पुनर्जीवित करने के लिए ग्राम कोष का गठन कर बचत करेंगे। वही संग्राम संस्था के सचिव ओंकार विश्वकर्मा ने कहा की गाँव की समस्याओ को चिन्हित कर एक बार और विभागीय पदाधिकारी को अवगत कराएँगे ताकि समस्याओ का हल कर जीओरायडीह को एक आदर्श ग्राम के रूप में जिले में स्थापित किया जा सके।
बैठक में प्रदीप बिरहोर, संजू बिरहोरनी,सुमा बिरहोरनी,बिल्टू बिरहोर, महेन्द्र बिरहोर,नीलमणि बिरहोरनी, बिसनी बिरहोरनी,सुनीता बिरहोरनी,के अलावे दर्जनों बिरहोर उपस्थित थे, बैठक के समापन सुरेश बिरहोर ने किया।

Wednesday, 22 February 2017

स्वयं सेवी संस्था संग्राम के पहल पर पारिवारिक विवाद सुलझा

नैना देवी पति मुकेश साव निवासी खरागडीहा थाना जमुआ जिला गिरिडीह झारखण्ड के बिच पिछले तीन सालों से पारिवारिक विवाद चला आ रहा था। नैना के अनुशार उसकी सास व् गोयतनी बात बात पर उसे प्रताड़ित करती थी जिससे नैना मानसिक रूप से परेशान रहती थी और वह अपने पति से भी शिकायत नहीं कर पाती थी,नैना जब ज्यादा परेशान हो जाती थी तब अपने मायके जाने की बात कहती थी जिस कारण उसके पति उसे डांटते थे, इस हिंसा से नैना परेशान हो गई थी और धीरे धीरे हिंसा बढता चला गया और हद तब हो गया था जब उसकी गौतनी ने उसे जला कर मारने की बात कही थी, तब नैना मायके आ रही थी की इसी बिच उसकी उसकी गौयतनी व् सास उसे नहीं आने देने के लिए मार पीट की थी, यह सब नैना के साथ पिछले 3 साल से लगातार होते आ रहा था. उक्त मामले को नैन कुमारी ने संस्था को आवेदन दे कर कार्यवाही की मांग की थी। मामले में पहल करते हुए संग्राम संस्था द्वारा मुकेश साव और उसके परिवार के सदस्यों को संस्था कार्यालय में संस्था के सदस्य अधिवक्ता नाजिर खान द्वारा काउंसेलिंग किया गया। जिसमे नयना के मानसिक हालत ठीक नहीं होने और उसे इस तरह की यातना नहीं देने की सलाह अधिवक्ता नाजिर खान द्वारा काउंसेलिंग में मुकेश व् उसके परिवार वालो को दी गई, जिसके बाद मुकेश कुमार ने अपनी पत्नी को मान सम्मान के साथ रखने व् भय मुक्त वातावरण देने की बात कह कर संग्राम कार्यालय से ही अपनी पत्नी को विदा करा कर ले गया।संस्था द्वारा उन्हें खुशहाल जीवन जीने के कई सूत्र बताये और उनके मंगल जीवन की सुभकामनाये
दिए।

Friday, 25 September 2015

Domchanc changed the picture of youth initiatives

एक कदम स्वच्छता की और .... बात उन दिनों की है जब देश में सरकार झाड़ू ले कर सफाई कर रही थी ! तब डोमचांच में भी लोगो में सुगबुगाहट थी पर जिस अंदाज में काम होना था नहीं हुआ ! पर जब लोगो ने मन बना लिया की डोमचांच की तस्वीर बदलनी है तो अचानक सेकड़ो हाथ एक साथ खड़ा हो गया और देखते ही देखते डोमचांच शहर की तस्वीर बदल डाली गई ! यह कोई पार्टी नहीं था ! नहीं किसी संस्था का कार्यक्रम! इस काम के लिए कोई फंड भी नहीं था ! बस लोगो का जूनून था डोमचांच शहर को साफ़ करने का और हुवा भी यही ! समस्या सबके लिए बराबर था आज से कुछ दिन पहले बाज़ार रोड में कोई महिला बरसात के समय गुजरना नहीं पसंद करती थी ! रोज कई लोगो के घर में झगडा बस इस लिए होता था! की शब्जी क्न्यो नहीं आया ! बस इस लिए की बाज़ार की गंदगी लोगो को अन्दर आने नहीं देता था ! कई के घर में उनकी बीवी तो झाड़ू ले कर बस यही कहती की बाज़ार रोड से आये है तो स्नान कर घर में प्रवेश करियेगा ! आज लोगो का गुस्सा बाज़ार की गंदगी पर उतरा और मात्र 5 से 6 घंटे में बाज़ार साफ़ ! प्रखंड प्रशाशन और पुलिस ने भी इस अभियान में उतना ही सहयोग किया जितना यहाँ की जनता ने किया ! सभी ने एक स्वर में कहा गंदगी हटाओ ! अब एस काम को अंजाम देने के लिए एक कमिटी बनाई जाएगी और बाज़ार के साफ सफाई का जिम्मा उसके हाथ में होगा ! सभी ने एक स्वर में यही सन्देश दिया की एक कदम स्वच्छता की और .... स्वच्छ डोमचांच - सुन्दर डोमचांच ,

Wednesday, 17 June 2015

दो दिवसीय मानवाधिकार कार्यकर्त्ता प्रशिक्षण शिविर संपन्न

Ø  दो दिवसीय मानवाधिकार कार्यकर्त्ता प्रशिक्षण शिविर संपन्न
Ø  बिरहोर बच्चो को मिला कम्प्युटर
Ø  पुर्व प्रखंड विकास पदाधिकारी रिंकू कुमार को जन मित्र सम्मान

 मानवाधिकार जन निगरानी समीति व् संग्राम के संयुक्त तत्वाधान में मानवाधिकार विषय पर क्षेत्र के मानवाधिकार कार्यकर्त्ताओ का दो दिवशिया प्रशिक्षण संपन्न हुवा ! प्रशिक्षक के रूप में आये बनारस से आये अनूप श्रीवास्तव ने बताया की आज कदम कदम पर मानवाधिकार हनन के मामले सामने आ रहे है ऐसे समय में अगर हमें कानून व सरकार के कार्यो की जानकारी नहीं हो तो सरकार के आला  अधिकारी आम लोगो को चक्कर कटवाते रहते है ! हमें अपने अधिकार के साथ अन्य लोगो के मानवाधिकार हनन को कैसे रोके इसके लिए पहल करना जरुरी है !
हमारा अधिकार वाही तक है जहा की हम दूसरे के अधिकार का हनन ना हो ! वही इर्शाद अहमद ने कानून और सरकार द्वारा संचालित योजनाओ की पूरी जानकारी दी! कहा हमें अपने अधिकार के लिए सजग रहने की जरुरत है ! वाही संगठन के जिला प्रभारी ओंकार विश्वकर्मा ने कहा की इस प्रशिक्षण के बाद जिले के हर मानवाधिकार हनन के मामले पर मानवाधिकार कार्यकर्ताओ की पूरी नजर रहेगी! जो भी मामले सामने आयेगे  उस पर तत्काल कार्यवाही करने के लिए संगठन तैयार रहेगी! वही बसंत मेहता ने कहा की दलितों और पिछडो और बिरहोरो के अधिकार  लिए काम कर रही संगठन उनके अधिकार की बहाली के लिए हमेशा खड़ा रहेगी! कार्यक्रम के समापन में डोमचांच प्रखंड के पुर्व प्रखंड विकास पदाधिकारी के पद पर रहते हुवे वर्तमान अंचल अधिकारी श्री रिंकू कुमार को जन कल्याणकारी योजनाओ के कुशल क्रियान्वयन के माध्यम से वंचित पिछड़े व् दलितों के गरिमा व अधिकार को सुनिश्चत करने के लिए जनमित्र प्रशस्ति पत्र दे कर सम्मानित किया गया! सम्मान ग्रहण करने के पशचात श्री रिंकू कुमार ने कहा की जनता के साथ जुडाव कायम करना और उनके समश्या को सुन कर पहल करने ने हमें ख़ुशी मिलती है जो हमने अपने पहल से किया ! संस्था द्वारा वंचित समुदाय से जुड़ने का जो मौका मिला है वो सायद हमें कही मिलेगा ! इसके लिए हम समिति को धन्यवाद देते है और जहा तक हो सकेगा वाचित समुदाय के हक़ के लिए काम करेंगे ! वही कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित प्रखंड विकास पदाधिकारी डोमचांच व एल डी ऍम कोडरमा ने संस्था के बिरहोर जाति के बच्चो के लिए कर रहे कार्य की सराहना की और कहा की जहा तक हो सकेगा बैंक और जिला प्रशासन आपके काम के साथ है ! जनजाति के बच्चो को उनका अधिकार मिले और पूरी शिक्षा मिले इसके लिए हम लोगो ने आज इन बच्चो को कम्प्युटर प्रदान कर रहे है! कार्यक्रम में सुनीता देवी,तनूजा देवी,आशीष कुमार, बिट्टू दास, रंजीत मेहता,रामपुकार भारती,वंदना चंद्रवंशी,रंजीत तुरी ,सुमनलाल मेहता,मनोज बिरहोर,शुशीला देवी,गुल्सहन बानो अलावे,अन्य पंचायत के लोग उपस्थित थे! धन्यवाद ज्ञापन वंदना चंद्रवंशी ने किया!
  

Popular Posts